Total Samachar योगी की मिर्जापुर यात्रा

0
59

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की यात्राओं में विकास और जनहित के विषय अनिवार्य रूप से शामिल होते हैं. होलिकोत्सव में वह गोरखपुर गए थे. वहाँ भी उन्होने विकास कार्यो की समीक्षा की थी.वह मिर्जापुर में जनशक्ति मंत्री स्वतंत्रत देव सिंह की माँ के निधन पर संवेदना व्यक्त करने पहुँचे थे. मिर्जापुर और विन्ध्याचल के विकास कार्यों की भी उन्होने समीक्षा की. वह विन्ध्याचल गए. वहाँ चल रहे कॉरिडोर निर्माण कार्य का निरीक्षण किया. अधिकारियों को निर्देशित किया कि माँ विन्ध्यवासिनी कॉरिडोर’ परियोजना के कार्यों में तेजी लाई जाए. अनवरत रूप से कार्य जारी रखा जाए तथा सभी कार्यों को निर्धारित समयावधि के अन्दर पूर्ण करा लिया जाए।जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री जी को ‘माँ विन्ध्यवासिनी कॉरिडोर’ परियोजना निर्माण की प्रगति के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने विन्ध्याचल पहुंचकर माँ विन्ध्यवासिनी देवी का दर्शन-पूजन किया। उन्होंने विन्ध्याचल में निर्माणाधीन ‘माँ विन्ध्यवासिनी कॉरिडोर’ परियोजना की प्रगति का भौतिक निरीक्षण किया। उन्होंने बैट्री चालित कार को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसे दिव्यांगजन की सुविधा के लिए प्रयोग में लाया जाएगा।

योगी आदित्यनाथ ने मीरजापुर में जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक में चैत्र नवरात्रि मेला को सकुशल ढंग से सम्पन्न कराने हेतु महत्वपूर्ण निर्देश दिये।

कहा कि आगामी चैत्र नवरात्रि मेला के दृष्टिगत दर्शनार्थियों तथा श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सभी व्यवस्थाएं समय से कर ली जाएं। दर्शनार्थियों/श्रद्धालुओं को समय से चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने हेतु चिकित्सकों की तैनाती कर दी जाए। दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। सुरक्षा के दृष्टिगत पुलिस फोर्स की व्यवस्था करा ली जाए। किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए प्रशासन और पुलिस विभाग मुस्तैद रहे। भगदड़ की सम्भावना को देखते हुए मेला क्षेत्र में रूट निर्धारित कर लिया जाए। मेला ड्यूटी में लगे कार्मिकों का व्यवहार प्रशिक्षण कराया जाए, जिससे वे दर्शनार्थियों श्रद्धालुओं के साथ अच्छा व्यवहार करें। सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में विद्युत तारों को भूमिगत करा दिया जाए। स्ट्रीट लाइटिंग की व्यवस्था सुदृढ़ कर ली जाए। ड्रेनेज की व्यवस्था करा ली जाए तथा बार-बार सड़कों की खुदाई न की जाए। स्वयंसेवी संस्थाओं को मेले के कार्य से जोड़ा जाए, जिससे दर्शनार्थियों श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here